Pappu Jokes – महाभारत भगवत गीता श्लोक

2
Want create site? Find Free WordPress Themes and plugins.

Here, very funny pappu jokes, funny mahabharat sanskrit shlok jokes, teacher student jokes, when teacher ask to pappu shlok’s meaning…

mahabharat sanskrit shlok joke, pappu jokes in hindi

Mahabharat Sanskrit Shlok Funny Meaning Jokes

संस्कृत की क्लास मे गुरूजी ने पूछा –

“पप्पू इस श्लोक का अर्थ बताओ – कर्मण्येवाधिका रस्ते मा फलेषु कदाचन”

पप्पू – “राधिका कदाचित रस्ते मे फल बेचने का काम करती है”

गुरूजी – “मूर्ख, ये अर्थ नही होता है. चल इसका अर्थ बता –
“बहुनि मे व्यतीतानि,जन्मानि तव चार्जुन”

पप्पू – “मेरी बहू के कई बच्चे पैदा हो चुके हैं, सभी का जन्म चार जून को हुआ है”

गुरूजी – “अरे गधे, संस्कृत पढता है कि घास चरता है”

अब इसका अर्थ बता –
“दक्षिणे लक्ष्मणोयस्य वामे तू  जनकात्मजा”

पप्पू – “दक्षिण मे खडे होकर लक्ष्मण बोला –

“जनक आजकल तो तू बहुत मजे मे है”


गुरूजी – “अरे पागल !!! तुझे एक भी श्लोक का अर्थ नही मालूम है क्या ?”

पप्पू – “मालूम है ना…!!!”

गूरूजी – “तो आखरी बार पूछता हूँ इस श्लोक का सही सही अर्थ बताना –

“हे पार्थ त्वया चापि मम चापि..!”
क्या अर्थ है जल्दी से बता 

पप्पू – “महाभारत के युद्ध मे श्रीकृष्ण भगवान अर्जुन से कह रहे हैं कि -“

गुरूजी उत्साहित होकर बीच मे ही कहते हैं – “हाँ, शाबास,  बता क्या कहा श्रीकृष्ण ने अर्जुन से ?”

पप्पू – “भगवान बोले –

“अर्जुन तू भी चाय पी ले, मैं भी चाय पी लेता हूँ… फिर युद्ध करेंगे”

गुरूजी बेहोश…!
पप्पू – ????? 

Did you find apk for android? You can find new Free Android Games and apps.

2 COMMENTS

  1. आपकी सभी पोस्टिंग सूंदर,प्रेरक,मनोरंजक होते है जो की मैं देखते रहता हु,बधाई

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here