Mohabbat Shayari – हमने ना रखी मोहब्बत की आस

Mohabbat Shayari - Sad shayari

उसके बाद हमने ना रखी किसी से मोहब्बत की आस,

क्योंकि,  – “एक तजूर्बा ही था हमारे लिये बहोत खास”