The Great Thought (Quotes) in हिन्दी कोट्स

3
14180

Here Superb Great Thought in Hindi

Here, great thought in  hindi, हिन्दी कोट्स, Quotes for whatsapp and facebook. superb thought. superb quotes in hindi. 

quotes in hindi - kuwe me utarane wali
कुए में उतरने वाली बाल्टी यदि जुकती है, तो
वह भर कर बहार निकलती है,
जिंदगी का भी यही गणित है
“जो झुकता है, वो प्राप्त करता है”

**Eng. Font :
Kuwe mein utarne wali balti Zukti hai to
bharkar bahar nikalti hai.
Zindagi ka bhi yahi usul hai
“Jo zukta hai wo prapt karta hai”
***********************
quotes in hindi, हिन्दी कोट्स
आपका खुश  रहना ही
आपके दुश्मनो के लिये
सबसे बड़ी सजा है…
**Eng. Font :
Aapka khus rahena hi aapke Dushmano ke liye sabse badi saja hai.
***********************
जिवन ना तो भविष्य में है,
और ना तो अतित में है,
जिवन तो केवल इस पल में है….
**Eng. Font :
Ziwan na to Bhavishya mein hai Or Na to Atith mein hai Ziwan to kewal is pal mein hai.
***********************
हम में एक ही कमी है…
हम समझते सब कुछ है, पर
स्विकारना वो ही चाहते है,
“जो हमें करना है…”
**Eng. Font :
Hum mein ek hi kami hai – Hum samjate sab kuch hai par swikarna wo hi chahte hai jo hame karna hai.
***********************
जीभ  में हड्डी नहीं होती है,
पर
हड़्डी टुड़वाने की ताकत  जरूर होती है… 
**Eng. Font :
Zibh mein haddi nahi hoti hai par haddi tudwane ki takat jarur hoti hai.
************************
इस दुनिया का नियम है..
“जब तक तुम्हारा काम है – तुम्हारा नाम है,
बाद में दूर से ही सलाम है…”
**Eng. Font :
Is Duniya ka niyam hai “Jab tak tumhara Kaam hai tumhara Naam hai, Bad mein dur se hi salam hai”
************************
जो इन्सान आपके दुःख में साथ नहीं देता
उसे आपके सुख में साथ रहने का
*कोई अधिकार नहीं है…*
**Eng. Font :
Jo insaan aapke Dukh mein sath nahi deta use aapke Sukh mein sath rahene ka koi adhikar nahi hai.
************************
पहले पाप करके फिर
प्रायश्चित करना
वो
किचड़ में पांव डालके
धोने के समान है…
**Eng. Font :
Pahele PAAP karke fir PRAYACHIT karna Wo kichad mein panv dalke dhone ke saman hai.
************************

एक कड़वा सच

“अगर आप रास्ते पर चल रहे है और आपको पत्थर की मुर्तिया दिखें

1) भगवान राम की
और
2)रावण की

अब यदि आपको कहा जाए कि कोई एक मुर्ति उठाओं
तो अवश्य आप राम की मूर्ति उठा कर घर लेके जाओगे…
.
क्यों की राम सत्य, निष्ठा, सकारात्मकता के प्रतिक हे और रावण नकारात्मकता का प्रतिक हे।

****यह उदाहरण फिरसे दोहराया जाये*****
यदि आप रास्ते पर चल रहे हो और दो मुर्तिया मिले – राम और रावण की
पर अगर “राम की मूर्ति पत्थर” की और “रावण की सोने “की हो
अब एक मूर्ति उठाने को कहा जाए तो
आप राम की मूर्ति छोड़ कर रावण की सोने की मूर्ति ही उठाओगे….
.
.
.
.
.
.
.
मतलब
हम सत्य और असत्य, सकारात्मक और नकारात्मक अपनी सुविधा और लाभ के अनुसार तय करते हे।
☺☺☺☺

95% लोग भगवान को सिर्फ लाभ एवं डर की वजह से ही पूजते है. ☺
.
.
.
.
.
और इस बात से वह 99% लोग भी सहमत होंगे
मगर शेअर नही करेंगे…
***************************

सबसे बड़ा रोग, क्या कहेंगे लोग…
***Eng.  : Sabse Bada ROG…  Kya Kahenge LOG…

3 COMMENTS

LEAVE A REPLY